हमारे देश में आज भी महिलायें अपने शरीर और पर्सनल चीज़ों को लेकर शर्म अनुभव करती है. अक्सर माएँ लड़कियों को सिखाती हैं कि पैंटी और ब्रा जैसे अंडरगारमेंट्स छिपाकर सुखाने चाहिए. छोटे कपड़ों को हमेशा शर्म का कारण माना जाता रहा है. इंडिया में औरतों के ऊपर ये शर्म इस कदर हावी है कि वो अपने ही घर के पुरुषों से छिपाकर अपने अंडरगारमेंट्स सुखाती हैं. बाथरूम के अंदर या फिर दूसरे कपड़ों से ढककर पैंटी और ब्रा सुखाते हुए कई परिवारों को देखा जा सकता है.

शर्म की वजह से बीमारी को न्यौता

हमें सोशल नॉर्म्स और शर्म को भुलाकर अपनी हेल्थ को प्राथमिकता देनी चाहिये
Image – sheknows

ये एक ऐसा मुद्दा है जिस पर बात करना बहुत जरुरी है. हम में से हर एक को ये समझने की जरुरत है कि कपड़ों को छाँव सुखाने से उनमें नमी ज्यादा टाइम तक रहती है. इस नमी में कई जीवाणु और विषाणु पैदा हो जाते हैं. स्किन और प्राइवेट पार्ट के संपर्क में आने पर ये कई गंभीर बीमारियों को जन्म देते हैं. जबकि धूप में इस तरह के जीवाणु और विषाणु सर्वाइव नहीं कर पाते हैं. अंडरगारमेंट्स हमारी स्किन के सबसे करीब रहते हैं. ऐसे में धोने के बाद भी अगर वो कीटाणु रहित ना हो पायें तो उन्हें धोने का कोई मतलब नहीं रह जाता।

पूरी तरह स्वच्छ कपड़ा वही होता है जिसे अच्छे डिटर्जेंट से धोकर, साफ़ पानी में निकालकर अच्छी तरह धूप में सुखाया गया हो. इसीलिए हमें सोशल नॉर्म्स और शर्म को भुलाकर अपनी हेल्थ को प्राथमिकता देनी चाहिये.छोटे और बड़े सभी कपड़ों को धूप में सुखाना चाहिए।.

क्यों है जरुरी?

अंडर गारमेंट्स की साफ़ सफाई भी महिलाओं की हेल्थ के लिए जरुरी है.

छाँव में सूखे कपड़े पहनने से स्किन एलेर्जी और यूरिनरी ट्रैक इन्फेक्शन होने के चांस अस्सी प्रतिशत तक बढ़ जाते हैं. इतना ही नहीं ये कीटाणु प्राइवेट पार्ट्स के जरिये ब्लैडर तक पहुँच सकते हैं जिससे किडनी इन्फेक्शन और स्टोन का खतरा बन सकता है. अगर हम स्थिति की गंभीरता को समझने की कोशिश करें तो अंडरगारमेंट्स को खुली धूप में सुखाना पर्सनल हाईजीन का ही हिस्सा है. डॉक्टर्स जिस तरह से पीरियड्स के समय पैड इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं उसी तरह अंडर गारमेंट्स की साफ़ सफाई भी महिलाओं की हेल्थ के लिए जरुरी है. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.