कोरोना का कहर

पूरे देश में कोरोना को लेकर लॉकडाउन की स्थिति बनी हुई है. ऐसे में दिल्ली-एनसीआर में फंसे देश भर के मजदूरों को यहां से निकालने पर अलग-अलग राज्यों के मुख्यमंत्री अलग-अलग बयान जारी कर रहे हैं. इस मामले में बिहार के सीएम नीतीश कुमार कहा है कि जो मजदूर जहां है अभी वहीं रहें. उन्होंने ऐसा संक्रमण के खतरे को देखते हुए कहा.

गृहमंत्री अमित शाह ने की बात

राजस्थान की बात की जाए तो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने निर्देश दिया है कि जो भी प्रवासी मजदूर जहां फंसे हुए हैं उन्हें राज्य की सीमा तक सरकारी बस से पहुंचाया जाएगा. लेकिन इस सब के बीच गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात की है और उनसे इस वक्त मजदूरों का पलायन रोकने को कहा है. लॉकडाउन के चौथे दिन से ही दिल्ली से देश के अलग-अलग राज्यों में जाने वाली सड़कों पर मजदूरों की लंबी कतार लगी हुई है. ये मजदूर यहां से किसी भी हालत में निकलना चाहते हैं. ऐसे में एक बार फिर से भीड़ को देखते हुए संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है.

बड़ी संख्या में भीड़ इकट्ठा

पलायन को लेकर दिल्ली के आनंद विहार में बड़ी संख्या में मजदूरों की भीड़ इकट्ठा हो गई. जिसके बाद वापसी सुनिश्चित करने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ ने 1000 बसों का इंतजाम किया. ये मजदूर यूपी के एटा, इटावा, बुलंद शहर, बदायूं की ओर जाने वाले हैं.

पलायन रोकने के निर्देश

खबर है कि गृह मंत्री ने राज्य के मुख्यमंत्रियों से बात की है और उन्हें कहा है कि वे लॉकडाउन की वजह से बेघर हुए लोगों के रहने की व्यवस्था करे. गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कहा है कि मजदूरों का पलायन रोका जाए. गृह मंत्रालय ने कहा है कि मजदूरों, बेघर लोगों के लिए भोजन, कपड़ा, दवा और रहने की तत्काल व्यवस्था की जाए.

सीएम केजरीवाल ने कहा

इस मामले में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि इस वक्त लोगों को गांव नहीं जाना चाहिए. केजरीवाल ने ट्वीट किया कि ‘यूपी और दिल्ली – दोनों सरकारों ने बसों का इंतज़ाम तो कर दिया, लेकिन मेरी सभी से अपील है कि वे जहां है, वहीं रहें, हमने दिल्ली में रहने, खाने, पीने, सबका इंतजाम किया है. कृपया अपने घर पर ही रहें. अपने गांव ना जाएं, नहीं तो लॉकडाउन का मकसद ही खत्म हो जाएगा’.

नीतीश कुमार ने जतायी चिंता

सीएम योगी ने कहा कि मजदूरों को न सिर्फ सकुशल घर वापस भेजा जाएगा, बल्कि उनके खाने-पीने का इंतजाम किया जाएगा. हालांकि बसों के इंतजाम पर बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने चिंता जतायी है. खबरों के अनुसार नीतीश ने कहा कि अगर दूसरे राज्यों से मजदूर यहां आते हैं तो वे अपने साथ संक्रमण भी ला सकते हैं. इससे लॉकडाउन का उद्देश्य ही खत्म हो जाएगा. नीतीश ने कहा कि अगर आपको बिहार से प्यार है तो जो जहां हैं वहीं रहें. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.