तापसी पन्नू का बयान

अक्सर सुर्खियों में रहने वाली बॉलीवुड एक्ट्रेस तापसी पन्नू एक बार फिर से चर्चा में आ गई हैं. इस बार उन्होंने हिंदी भाषा को लेकर एक बड़ा बयान दिया है. बॉलीवुड एक्ट्रेस तापसी पन्नू ने कहा है कि हिंदी भारत की मूल भाषा नहीं है इसलिए दक्षिण की फिल्म को छोड़ने का फैसला ‘बहुत मूर्खतापूर्ण’ कदम होगा.

तमिल-तेलुगू फिल्म का सहाना नहीं

अपने बयान में बॉलीवुड एक्ट्रेस तापसी पन्नू ने कहा कि उन्होंने बॉलीवुड में आने के लिए तमिल और तेलुगू फिल्म का सहारा नहीं लिया है. तापसी पन्नू ने यह भी कहा कि कुछ कलाकार अलग-अलग भाषाओं और क्षेत्रों में बनाई गई सिनेमा की विभिन्न शैलियों में काम करने के लिए अलग-अलग प्रबंधन करते हैं और वे तेलंगाना के छोटे केंद्रों के साथ-साथ हिंदी भाषी बेल्ट में भी जानी जाती हैं.

‘स्थान छोड़ना नहीं चाहती’

अपने बयान में तापसी पन्नू ने कहा कि ‘मुझे लगता है कि कुछ अभिनेता दोनों स्थान पर सफलता के साथ काम कर लेते हैं और मैं इस स्थान को नहीं छोड़ना चाहती हूं. अगर मैं इस मार्केट को छोड़ती हूं तो ऐसा करना बहुत मुर्ख कदम होग. ऐसा माना जाता है कि हिंदी भारत की मूल भाषा है, लेकिन मुझे ऐसा नहीं लगता. मैं दक्षिण में काम करना जारी रखूंगी’.

‘दक्षिण ने मुझे सिखाया’

तापसी पन्नू कहा कि ‘दक्षिण ने मुझे सिखाया फिल्म मेकिंग क्या है. इसने मुझे अभिनेत्री बनाया. ऐसा बिल्कुल नहीं है कि मैंने बॉलीवुड में जाने के लिए इसका सहारा लिया. मैं इसे छोड़ नहीं सकती’. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.

प्रदीप शर्मा