हिंसा प्रभावित इलाकों का दौरा

बीते दिनों नागरिकता संशोधन कानून को लेकर हुई हिंसा ने दिल्ली में काफी हाहाकार मचाया. लेकिन दिल्ली में सीएए को लेकर भड़की अब शांत हो गई है. पुलिस ने इस मामले मे कार्रवाई करते हुए दंगाइयों की धरपकड़ भी शुरू कर दी . इस बीच कांग्रेस नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाकों के दौरे पर है. जिसका हिस्सा कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी हैं.

राहुल गांधी ने कहा

हिंसा प्रभावित इलाकों के दौरे के दौरान राहुल गांधी कांग्रसे नेताओं के साथ नॉर्थ ईस्ट दिल्ली के बृजपुरी इलाके में पहुंचे. यहां उन्होंने उस स्कूल का दौरा किया, जो हिंसा के दौरान आगजनी का शिकार हुआ था. स्कूल से बाहर राहुल गांधी ने मीडिया से कहा कि ‘ये स्कूल है. ये हिंदुस्तान का भविष्य है. जिसे नफरत और हिंसा ने जलाया है. इससे किसी का फायदा नहीं हुआ है. हिंसा और नफरत तरक्की के दुश्मन हैं. हिंदुस्तान को जो बांटा और जलाया जा रहा है इससे भारत माता को कोई फायदा नहीं है’.

‘हिंसा और नफरत तरक्की के दुश्मन हैं’

राहुल गांधी के साथ कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल में मुकुल वासनिक, कुमारी शैलजा, अधीर रंजन चौधरी, केसी वेणुगोपाल, रणदीप सुरजेवाला, के सुरेश, गौरव गोगोई और ब्रह्म मोहिंद्रा शामिल हैं. वो बृजपुरी के अरुण मॉडर्न पब्लिक स्कूल में पहुंचे.

‘प्यार से यहां काम करना पड़ेगा’

राहुल गांधी ने अपील करते हुए कहा कि सबको मिलकर प्यार से यहां काम करना पड़ेगा. हिंदुस्तान को जोड़कर ही आगे बढ़ा जा सकता है. दुनिया में जो छवि भारत की है, उसको ठेस पहुंची है. भाईचारा और एकता हमारी ताकत थी, उसको यहां जलाया गया है. इससे हिंदुस्तान और भारत माता को नुकसान होता है.

अमित शाह के इस्तीफे की मांग

24 फरवरी को दिल्ली में भड़की हिंसा तीन दिन तक जारी रही थी. मीडिया में चल रहे आंकड़ों के अनुसार दिल्ली हिंसा में अबतक 46 लोगों की मौत हो चुकी है. बता दें कि कांग्रेस की ओर से संसद में भी दिल्ली हिंसा का मुद्दा उठाया जा रहा है. राहुल गांधी भी संसद परिसर के बाहर हुए कांग्रेस के विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए थे, इस दौरान कांग्रेस नेताओं ने अमित शाह के इस्तीफे की मांग की थी.

सरकार के रवैये की निंदा

वही दूसरी तरफ कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अगुवाई में दिल्ली हिंसा के मसले पर कांग्रेस ने मोदी सरकार और केजरीवाल सरकार पर तीखा हमला बोला था. बीते दिनों कांग्रेस ने वर्किंग कमेटी की बैठक की थी. बैठक में दिल्ली हिंसा पर केंद्र सरकार के रवैये की निंदा की गई थी. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.