राहुल गांधी का बयान

कांग्रेस पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने और भारतीय जनता पार्टी ज्वॉइन करने पर कहा है कि मैं सिंधिया को कॉलेज के दिनों से जानता हूं. मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार वह अपने राजनीतिक भविष्य को लेकर चिंतित हो गए और विचारधारा से समझौता कर आरएसएस के साथ चले गए. राहुल गांधी ने कहा कि सच्चाई यह है कि उन्होंने बीजेपी में न तो सम्मान मिलेगा और न ही संतुष्टि. मैं जानता हूं कि उनके दिल में क्या है और वह क्या बोल रहे हैं.

‘भविष्य को लेकर चिंतित सिंधिया’

मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार राहुल गांधी ने कहा कि मैं कांग्रेस का अध्यक्ष नहीं हूं. उम्मीदवारों का चयन मैं नहीं करता. मैं देश के युवाओं को अर्थव्यवस्था के हालात के बारे में बता रहा हूं. हालांकि इससे पहले राहुल गांधी ने इस बात का खंडन किया था कि कांग्रेस से इस्तीफा देने से पहले सिंधिया ने सोनिया गांधी और उनसे मिलने की कोशिश की थी. लेकिन उन्हें समय नहीं दिया गया.

‘कभी भी मेरे घर आ सकते थे’

राहुल गांधी ने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस में इकलौते ऐसे शख्स थे, जो कभी भी मेरे घर आ सकते थे. वही दूसरी तरफ कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल होते वक्त ज्योतिरादित्य सिंधिया पुरानी पार्टी पर खूब बरसे. उन्होंने कहा कि कांग्रेस जड़ता की शिकार हो गई है और नए नेतृत्व के लिए सही वातावरण नहीं है. उन्होंने मध्य प्रदेश की  कांग्रेस सरकार पर किसानों-युवाओं से किए वादे न निभाने तथा भ्रष्टाचार में डूबे रहने का आरोप लगाया.

आपको बता दें कि ज्योतिरादित्य सिंधिया 18 वर्षों तक कांग्रेस में रहे. उन्होंने 10 मार्च को कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दिया और 11 मार्च को जेपी नड्डा की मौजूदगी में बीजेपी ज्वॉइन की थी. सिंधिया के इस्तीफा देने के बाद कांग्रेस के 19 विधायकों ने भी इस्तीफा दे दिया. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.