बिहार बंद का आह्वान

नागरिकता कानून के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन की आग लगातार फैल रही है. दिल्ली के बाद यूपी, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल, गुजरात और अमस के बाद बिहार में भी इसकी आग देखने को मिल रही है. बिहार में राष्ट्रीय जनता दल ने इस कानून के खिलाफ बंद का आह्वान किया. इस दौरान काफी प्रदर्शन किया गया. प्रदर्शन कब हिंसक हो गया, पता ही नहीं चला. इस दौरान आरजेडी कार्यकर्ताओं द्वारा अपने कपड़े उतारे गए और प्रदर्शन किया गया.

कई ट्रेनें रोकी गई

बिहार बंद का आह्वान करने के बाद इसका असर ट्रेनों पर पड़ा. इस दौरान कई ट्रेनों का रोका गया जिस कारण लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा. आरजेडी कार्यकर्ताओं ने अररिया में एक ट्रेन रोक दी. दरभंगा और वैशाली में भी प्रदर्शनकारियों ने सड़क बंद कर दी. सुरक्षा के लिहाज से बड़ी संख्या में बिहार पुलिस के जवान तैनात किए गए हैं.

आरजेडी ने किया विरोध

वही नागरिकता कानून को लेकर हो रहे प्रदर्शन की आग पटना में भी देखने को मिली. पटना में आरजेडी कार्यकर्ताओं ने सड़क पर प्रदर्शन किया और टायर जलाए. मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार पटना में विकासशील इंसान पार्टी के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन के दौरान तोड़फोड़ की गई.

‘कांग्रेस सड़क पर नहीं’

मीडिया में चल रही खबरों की मानें तो नागरिकता कानून के खिलाफ जारी प्रदर्शन के बीच चुनावी रणनीतिकार और जेडीयू नेता प्रशांत किशोर की तरफ से कहा गया कि ‘कांग्रेस इस प्रदर्शन में सड़कों पर नहीं दिख रही है. पार्टी के बड़े नेता भी गायब दिख रहे हैं. पार्टी कम से कम इतना तो कर ही सकती है कि सभी कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों को उन मुख्यमंत्रियों के साथ खड़ा करे, जिन्होंने कहा है कि वे अपने राज्यों में एनआरसी लागू नहीं करेंगे, अन्यथा कांग्रेस के बयान का कोई मतलब नहीं है’. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.

प्रदीप शर्मा