20 जुलाई शनिवार को कांग्रेस के लिए एक काफी भयानक दिन रहा. इस दिन कांग्रेस की वरिष्ठ नेता शीला दीक्षित का निधन हो गया. उनका निदान 81 साल की उम्र में हुआ. सुबह के वक्त तबीयत ज्यादा खराब होने पर उन्हें दिल्ली के एस्कॉर्ट्स फॉर्टिस हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था. लेकिन इलाज के दौरान 3:15 पर शीला दीक्षित को कार्डियक अरेस्ट हुआ जिसके बाद उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया लेकिन इस दौरान उनका निधन हो गया.

1998 में मिली थी दिल्ली की जिम्मेदारी

शीला दीक्षित पहले उत्तर प्रदेश की राजनीति में सक्रिय थीं लेकिन लगातार चार लोकसभा चुनाव हारने के बाद साल 1998 में तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उन्हें दिल्ली की जिम्मेदारी सौंप दी थी. दिल्ली की कमान संभावने के बाद शीला दीक्षित चुनाव जीतकर मुख्यमंत्री बनी. शीला दीक्षित ने 15 साल दिल्ली की मुख्यमंत्री पद को निभाया है साल 2013 में उन्होंने तीन कार्यकाल बतौर मुख्यमंत्री पूरे किए थे.

केरल की राज्यपाल रही थी शीला दीक्षित

शीला दीक्षित का जन्म 31 मार्च 1938 को पंजाब के कपूरथला में हुआ था साल 2014 में उन्हें केरल का राज्यपाल बनाया गया था. लेकिन उन्होंने 15 अगस्त 2014 को इस्तीफा दे दिया था इस साल वह उत्तर पूर्व दिल्ली से लोकसभा चुनाव लड़ी थी लेकिन बीजेपी की तरफ से मनोज तिवारी के सामने उन्हें हार मिली. शीला दीक्षित 1984 से 1989 तक कन्नौज लोकसभा सीट से सांसद रही थी. साल 1986 से 1989 तक उन्होंने केंद्रीय मंत्री का पद भी संभाला था. ’ ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.

प्रदीप शर्मा