बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर मोदी सरकार को घेरा है. मायावती ने ट्वीट का बीजेपी पर जमकर निशाना साधा औल मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर केंद्र सरकार के रवैए पर सवाल उठाए. मायावती ने ट्वीट कर उन्मादी भीड़ की हिंसा को ना रोक पाने पर केंद्र सरकार को उदासीन बताया.

मायावती ने किया ट्वीट

मायावती ने मॉब लिंचिंग को एक भयानक बीमारी करार दिया और कहा कि पुलिस भी मॉब लिंचिंग का शिकार हो रही है. इसके साथ ही उन्होंने ट्वीट कहा कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद केंद्र को गंभीर होकर मॉब लिंचिंग के लिए अलग कानून बना लेना चाहिए था लेकिन लोकपाल की तरह मॉब लिंचिंग के मामले में केंद्र सरकार उदासीन है और कमजोर इच्छाशक्ति वाली सरकार साबित हो रही है

कांग्रेस नेता ने भी दिया था बयान

वही इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद ने भी मॉब लिंचिंग को लेकर बड़ा बयान दिया था. सलमान ने कहा था कि मुझे लगता है कि दिल्ली के उन इलाकों में डर का कोई माहौल नहीं है जहां हम रहते हैं या काम करते हैं लेकिन हां छोटे शहरों और गांवों में इसका जर जरूर है. यह भारतीय की जिम्मेदारी है कि वह इस डर को खत्म करें.

20 जून को हुई थी पूरी घटना

आपको बता दें कि 20 जून को झारखंड के धतकीडीह गांव में परवेज अंसारी नाम का एक मुस्लिम युवक हिंसा का शिकार हुआ था उसे चोरी के शक में लोगों ने पकड़कर बुरी तरह से पीटा था और उससे जय श्री राम बोलने के लिए मजबूर किया था. गंभीर रूप से घायल परवेज ने अस्पताल में दम तोड़ दिया था जिसके बाद से ही विपक्ष केंद्र की मोदी सरकार पर हावी हो रही है. हालांकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस घटना पर दुख जता चुके हैं. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.

प्रदीप शर्मा