कर्नाटक में राजनीतिक घमासान मचा हुआ है. बुधवार को कांग्रेस के और 2 विधायकों ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया. इन विधायकों के नाम के सुधाकर और एमटीबी नागराज हैं. कर्नाटक की कुमार स्वामी सरकार से इस्तीफे देने वाले विधायकों की संख्या अब 16 पहुंच गई है जिनमें से 13 कांग्रेस के विधायक हैं और 3 जनता दल सेकुलर के विधायक हैं. इस्तीफों के बाद सरकार के समर्थन में मौजूद विधायकों की संख्या 101 रह गई है दूसरी ओर बीजेपी ने दावा किया है कि उसे 107 विधायकों का समर्थन हासिल है. 

विधानसभा स्पीकर का बयान-

लगातार आ रहे इस्तीफा के बीच कर्नाटक विधानसभा स्पीकर के आर रमेश कुमार का बयान सामने आया है उन्होंने किसी का इस्तीफा अभी तक स्वीकार नहीं किया है. कर्नाटक के विधानसभा स्पीकर ने कहा कि ‘मैंने कोई इस्तीफा स्वीकार नहीं किया है मैं इसे रातों-रात नहीं कर सकता हूं विधायकों को 17 तक का समय दिया गया है और मैं कानूनी प्रक्रियाओं का अध्ययन करूंगा जिसके बाद फैसला लूंगा’

रमेश कुमार का कहना है कि इस मामले में कानून अपना काम करेगा और किसी के लिए भी कानून को बदला नहीं जा सकता है. वहीं बुधवार को विधानसभा में जमकर हंगामा भी हुआ विधायक के सुधाकर ने जैसे ही इस्तीफा दिया तो उन्हें कांग्रेस के नेताओं और विधायकों ने घेर लिया और चेंबर में ले गए जहां पर के सुधाकर को समझाने की कोशिश की गई.

आपको बता दें कि इससे पहले कांग्रेस पूर्व राष्ट्रीय महासचिव जनार्दन द्विवेदी का बड़ा बयान सामने आया था. अपने बयान में उन्होंने कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष के नाम को फाइनल करने के लिए कार्य समिति की बैठक बुलानी चाहिए की बात कही थी. जनार्दन द्विवेदी अनुसार अभी यह तक पता नहीं चल पाया है कि कौन सी कोर्डिनेशन कमेटी किससे बात कर रही है और किससे सुझाव ले रही है. द्विवेदी के अनुसार राहुल गांधी को पद से इस्तीफा देने से पहले एक कमेटी का गठन करना चाहिए था. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.