अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर केंद्र की मोदी सरकार अब चारों तरफ से गिरती हुई नजर आ रही है. अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए केंद्र सरकार को काफी जद्दोजहद करनी पड़ रही है. लेकिन विपक्षी दलों के नेता लगातार मोदी सरकार पर उनकी आर्थिक नीतियों को लेकर सवाल खड़े कर रहे हैं. इस कड़ी में कांग्रेस के साथ ही बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने भी सरकार की नीतियों को सवालों के कटघरे में खड़ा कर दिया है.

प्रियंका गांधी का वार

दूसरी तरफ कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने अर्थव्यवस्था के मुद्दे को आधार बनाकर मोदी सरकार पर बड़ा हमला किया है. उनकी तरफ से कहा गया है की जीडीपी विकास दर से साफ है कि अच्छे दिन का भोंपू बजाने वाली भाजपा सरकार ने अर्थव्यवस्था की हालत पंचर कर दी है. प्रियंका गांधी की तरफ से ट्वीट किया गया है कि ना जीडीपी ग्रोथ है ना रुपए की मजबूती रोजगार गायब है अब तो साफ करो कि अर्थव्यवस्था को नष्ट कर देने की यह किसकी करतूत है ?

मोदी सरकार को लगा झटका

आपको बता दें कि विकास दर 7 साल के न्यूनतम स्तर पर पहुंच चुकी है. ऐसे में मोदी सरकार को आर्थिक मोर्चे पर जबरदस्त झटका लगा है. मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी 5 फीसदी पर पहुंच चुकी है. जबकि पिछली बार यह 5.8 फ़ीसदी पर थी. गिरते विकास दर को लेकर बीजेपी सरकार अब घिरती हुई नजर आ रही है. ऐसे में कांग्रेस ने मोदी सरकार को 5 फ़ीसदी के आंकड़े पर घेरना शुरू कर दिया है.

खराब स्थिति पर पहुंची जीडीपी

जीडीपी की हालत पिछले 7 सालों में सबसे ज्यादा खराब स्थिति पर पहुंच गई है.  1 साल पहले इसी तिमाही में जीडीपी 8 फ़ीसदी थी. मैन्युफैक्चरिंग, कंस्ट्रक्शन और कृषि सेक्टर की हालत खराब बताई जा रही है.

परेशान करने वाले हैं आंकड़े

आपको बता दें कि आर्थिक वृद्धि दर 2019-20 की पहली तिमाही में घटकर से 5% रह गई है. मैन्युफैक्चरिंग, कंस्ट्रक्शन और कृषि सेक्टर के आंकड़े काफी परेशान करने वाले हैं. एनएसओ की तरफ से जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार पहली तिमाही यानी अप्रैल-जून में विकास दर 5.8 फ़ीसदी से घटकर 5 फ़ीसदी हो गई है. पहले चालू वित्त वर्ष के लिए जीडीपी 7 फ़ीसदी रहने का अनुमान रखा गया था. 1 साल पहले इसी तिमाही में जीडीपी की दर 8 फ़ीसदी थी यानी 1 साल में पूरे 3 फ़ीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.

प्रदीप शर्मा