पथराव के बाद माफी

इन दिनों दुनिया के कई देश कोरोना की मार झेल रहे हैं. भारत भी इससे अछूता नहीं है. लेकिन कुछ शर्मिंदा करने वाली तस्वीर सामने आने के बाद कोरोना और भी ज्यादा भयानक दिख रहा है. बात मध्यप्रदेश के इंदौर की हो रही है जहां पर जांच के लिए गई डॉक्टरों की टीम पर पथराव किया गया. यहां किसी तरह दो महिला डॉक्‍टर्स जान बचाकर वहां से भागी थीं. इंदौर के मिजाज से उलट हुई इस घटना ने पूरे शहर को शर्मसार कर दिया था. लेकिन अब इंदौर की इस घटना के लिए शहर के कई मुस्लिम संगठनों ने अखबार में विज्ञापन देकर माफी मांगी है.

माफीनामे में ये लिखा

पथराव की वीडियो सोशल मीडिया पर जंगल में आग की तरफ फैल गई थी. हर कोई इस वीडियो की आलोचना कर रहा था. इस बीच मुस्लिम समाज की तरफ से माफी मांगी गई है. मुस्लिम समाज की ओर से इस माफीनामे में लिखा है कि डॉ तृप्ति कटारिया, डॉ जाकिया सैयद, समस्त डॉक्टर्स, नर्सेज, मेडिकल टीम, शासन-प्रशासन के समस्त अधिकारी, सभी पुलिसकर्मी, आशा-आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, संस्थाएं और समस्त लोग जो इस आपदा से बचाव में लगे हुए हैं. हमारे पास अल्फाज नहीं जिससे हम आपसे माफी मांग सकें, यकीन कीजिए हम सभी शर्मसार हैं हर उस अप्रिय घटना के लिए जो जाने-अनजाने अफवाहों में आकर हुई. हम इकरार करते हैं कि उस रब के बाद आप लोग हीं हैं जो हमेशा से हमारी हर बीमारी में, हर मुश्किल समय में हमारे लिए दीवार बनकर खड़े रहें. इसलिए आज हम दिल से आप सभी से माफी मांगना चाहते हैं, हमें माफ कर दीजिए. हम उस वक्त में पीछे जाकर उसे सुधार तो नहीं कर सकते पर वादा कर सकते हैं कि भविष्य में समाज की हर कमी को खत्म करने की हर संभव कोशिश करेंगे.

ढूंढे 18 संक्रमित

मीडिया में चल रही खबरों की मानें तो इंदौर के जिए टाटपट्टी बाखल इलाके में डॉक्टरों पर पथराव हुआ, वहां अगले ही दिन फिर से जांच के लिए दोनों लेडी डॉक्टर पहुंच गई थीं. दोनों ने उस इलाके से 18 कोरोना संक्रमित लोगों को ढूंढा था. कुछ दिनों पहले पथराव के बाद वहां डॉक्टरों की टीम जांच के लिए पहुंची थी. उसके बाद स्थानीय लोगों ने भी उनसे माफी मांगी थी. साथ ही कहा कि आप सब हमारी बहन जैसी हैं, हमें माफ कर दीजिए. कुछ बच्चों ने गलतफहमी की वजह से ऐसा कर दिया. इसके लिए हमलोग शर्मिंदा है. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.