स्विटजरलैंट ने दर्शाया तिरंगा

कोरना वायरस के कारण दुनिया भर में लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. भारत में कोरोना से निपटने के लिए लॉकडाउन की स्थिति बनी हुई है. इस बीच इससे निपटने में भारत के साथ एकजुटता प्रदर्शित करते हुए स्विटजरलैंड ने प्रसिद्ध मैटरहॉर्न पर्वत पर रोशनी की मदद से भारतीय तिरंगे को दर्शाया है.

मैटरहॉर्न पर्वत पर रोशनी

स्विटजरलैंड ने इसके जरिये प्रत्येक भारतीय को कोरोना से जीतने की ‘उम्मीद और जज्बे’ का संदेश दिया है. स्विटजरलैंड के जाने-माने लाइट आर्टिस्ट गेरी हॉफस्टेटर ने 14,690 फुट ऊंचे पहाड़ को तिरंगे के आकार में रोशन किया है. पर्यटन संगठन जरमैट मैटरहॉर्न ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा कि ‘दुनिया में सबसे अधिक आबादी वाले देशों में से एक भारत कोरोना संकट से पीड़ित है. इतने बड़े देश में चुनौतियां बहुत बड़ी हैं. मैटरहॉर्न पर्वत पर भारतीय ध्वज हमारी एकजुटता को व्यक्त करने के साथ ही सभी भारतीयों को आशा और शक्ति प्रदान करता है’.

एकजुटता का संदेश

साथ ही स्विटजरलैंड में भारतीय दूतावास ने ट्वीट में कहा गया है कि ‘कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में सभी भारतीयों के साथ एकजुटता दिखाते हुए 1000 मीटर से बड़े आकार का भारतीय तिरंगा स्विटजरलैंड केजरमैट में मैटरहार्न पर्वत पर प्रदर्शित किया गया. इस भावना के लिए जरमैट पर्यटन को हार्दिक धन्यवाद’. जानकारी के लिए आपको बता दें कि इस पहाड़ पर बीते 24 मार्च से ही कोरोना महामारी के खिलाफ दुनिया की एकजुटता प्रदर्शित करने के लिए हर दिन अलग-अलग देशों के झंडों को दर्शाती रोशनी की जा रही है. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुतेरस ने भारत सहित उन देशों को सलाम किया, जिन्होंने कोरोना से प्रभावित राष्ट्रों को मदद प्रदान की है.

उनका यह बयान ऐसे समय आया है, जब हाल ही में भारत ने अमेरिका सहित कई अन्य देशों को कोरोना का संभावित उपचार मानी जा रही मलेरिया रोधी दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन की आपूर्ति की है. अमेरिका का खाद्य एवं औषधि प्रशासन इस दवा का न्यूयॉर्क के 1500 से ज्यादा मरीजों पर परीक्षण कर रहा है. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.