पीएम मोदी ने की मीटिंग

कोरोना वायरस के कारण दुनियाभर में तबाही मची हुई है. भारत में इस जानलेवा वायरस के कारण लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ा दिया गया. जिसके बाद अब सवाल उठ रहे हैं कि क्या लॉकडाउन फिर से बढ़ाया जाएगा. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राज्य के मुख्यमंत्रियों के साथ करीबन तीन घंटे से ज्यादा तक मीटिंग चली.

मुख्यमंत्रियों के साथ मीटिंग

चर्चा में कोरोना वायरस से जुड़ी चीजों पर विचार विमर्श किया गया. पीएम मोदी और राज्य के मुख्यमंत्रियों के साथ चली मीटिंग के बाद अब सवाल उठ रहे हैं कि क्या एक बार फिर से लॉकडाउन को बढ़ाया जाएगा या नहीं ? खबर है कि बैठक के बाद छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री ने जो कहा, उस पर गौर करने की जरूरत है. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के बाद टीएस सिंह देव ने कहा कि ‘स्थितियां काफी नियंत्रण में हैं लेकिन पीएम मोदी ने पहले कहा था कि अप्रैल के आखिर और मई के पहले सप्ताह में स्पाइक आ सकता है यानी केस बढ़ सकते हैं और अब लोग कह रहे हैं कि जून-जुलाई तक ये खतरा टलेगा नहीं. यानी जून-जुलाई तक केस बढ़ सकते हैं. कोरोना हमारे साथ लंबे समय तक रहेगा. इस बात को ध्यान में रखते हुए हमें आगे की एक्टिविटी करनी होगी’.

क्या बढ़ेगा लॉकडाउन ?

मीडिया में चल रही खबरों के मुताबिक मीटिंग में पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने कहा कि पीएम और सीएम के बीच हुई मीटिंग का निष्कर्ष ये है कि कुछ रियायतों के साथ लॉकडाउन को आगे बढ़ाया जाए. दूसरी तरफ महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के कार्यालय से भी बयान जारी किया गया जिसमें कहा गया कि ‘मुख्यमंत्रियों के साथ एक वीडियो कॉन्फ्रेंस में पीएम मोदी ने संकेत दिया कि कोरोनो वायरस संक्रमण तीन मई से अधिक समय तक रहेगा और लोगों को मास्क, सैनिटाइजर का इस्तेमाल जारी रखने की जरूरत है. लॉकडाउन अवधि तीन मई को समाप्त हो रही है, हर राज्य को मौजूदा कड़े दिशानिर्देशों में छूट की शुरुआत करने की अपनी नीति तय करनी होगी. इसमें सड़क यातायात की अनुमति कैसे शामिल होगी, क्या वरिष्ठ नागरिकों को घरों से बाहर आना चाहिए, दुकानों की अनुमति कैसे देनी चाहिए’. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.