ईरान में फंसे भारतीयों का रेस्क्यू

पूरी दुनिया में इन दिनो कोरोना वायरस ने अपनी एक अच्छी खासी पकड़ बना ली है. चीन में अपने दहशत मचाने वाले कोरोना वायरस अब इटली और ईरान में भी अपने पैर पसारने शुरू कर चुका है. मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार ईरान में कोरोना की चपेट में आने से मरने वालों का आंकड़ा 237 पहुंच गया है. ऐसे में ईरान में फंसे भारतीयों का रेस्क्यू कर लिया गया है और 58 लोगों का पहला जत्था गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस पहुंच गया.

गाजियाबाद पहुंचा पहला जत्था

मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार जिन लोगों का रेस्क्यू किया गया है वे सभी लोग धार्मिक यात्रा के लिए ईरान गए थे. इस बीच कोरोना वायरस ने ईरान में पैर पसार लिए तो हर तरफ खौफ पैदा हो गया. भारत सरकार भी अलर्ट हो गई और ईरान से भारतीयों को निकालने की प्रक्रिया शुरू की गई. विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने श्रीनगर का दौरा किया और कोरोना वायरस से जूझ रहे ईरान में फंसे कश्मीरी छात्रों के माता-पिता को हरसंभव मदद का आश्वासन दिया.

कोरोना वायरस का कहर

जानकारी है कि विदेश मंत्री ने बताया था कि सरकार पहले तीर्थयात्रियों को निकालने की प्रक्रिया में है, जो आमतौर पर उम्र में बड़े होते हैं और उम्रदराज होने की वजह से वह कोरोनावायरस संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील भी हैं. उन्होंने कहा था कि तीर्थयात्रियों को वापस लाने के बाद जल्द ही छात्रों को निकाल लिया जाएगा. श्रद्धालुओं का पहले जत्थे के बारे में भी एस. जयशंकर ने खुद ट्वीट कर जानकारी दी थी.

विदेश मंत्री ने दी जानकारी

उन्होंने बताया कि तेहरान से भारतीय श्रद्धालुओं का पहला जत्था वापस आ गया है. इसके लिए उन्होंने ईरानी अधिकारियों का भी शुक्रिया अदा किया. साथ ही ये भी बताया कि ईरान में फंसे बाकी भारतीयों को निकालने पर भी काम किया जा रहा है. दूसरी तरफ देखा जाए तो ईरान में कोरोना का कहर हर दिन बढ़ता जा रहा है. मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार यहां कोरोना के कारण 43 लोगों की मौत हुई. अब तक कोरोना के संक्रमण से 237 लोगों की मौत हो चुकी है. ईरान में कुल 7167 केस सामने आए हैं, जिनमें से 2394 पॉजिटिव पाए गए हैं.  ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.