पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान का बड़ा बयान सामने आया है. मीडिया में चल रहा खबरों के अनुसार पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान की तरफ से कहा गया है कि उनके ही मुल्क ने आतंकियों को प्रशिक्षित किया है. लेकिन वे आतंकवादी जेहादी नहीं थे.

इमरान खान का बयान

मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने अमेरिकी सेना की मौजूगदी अफगानिस्तान में होने पर सवाल उठाते हुए कहा है कि सोवियत संघ द्वारा अफगानिस्तान पर कब्ज़ा कर लिए जाने के बाद उनके मुल्क ने अमेरिकी जासूसी एजेंसी CIA की मदद से जेहादियों को प्रशिक्षण दिया था. इसके 10 साल बाद अमेरिका वहां पहुंचा, और जब उन्हें लम्बे संघर्ष के बाद भी कामयाबी हासिल नहीं हो पाई, तो मुजाहिदीन को आतंकवादी करार दिया गया, और हमें दोषी ठहराया जा रहा है.

‘पाकिस्तान ने प्रशिक्षण दिया’

जानकारी है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि ‘80 के दशक में हम इन मुजाहिदीन को सोवियत यूनियन के खिलाफ जेहाद के लिए प्रशिक्षित कर रहे थे, जब उन्होंने अफगानिस्तान पर कब्ज़ा कर लिया था, इन लोगों को पाकिस्तान ने प्रशिक्षण दिया है, और इन्हें अमेरिका की जासूसी एजेंसी CIA ने माली मदद मुहैया करवाई’

मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि ‘इसके एक दशक के बाद जब अमेरिकन अफगानिस्तान में आए, तो वे सभी गुट, जो पाकिस्तान में हैं, वे कह रहे हैं कि चूंकि अमेरिकन वहां आ गए हैं, तो अब यह जेहाद नहीं, आतंकवाद बताया जा रहा है. यह बड़ा विरोधाभासी है, और मुझे लगता है कि पाकिस्तान को तटस्थ रहना चाहिए था, क्योंकि इनमें शामिल होने की वजह से यही मुजाहिदीन गुट हमारे खिलाफ हो गए हैं’. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.

प्रदीप शर्मा