देशभर में ईद की खुशियां मनाई जा रही है. इस बीच जम्मू कश्मीर में ईद उल अजहा के मद्देनजर सुरक्षा की कड़ी व्यवस्था की गई है. ईद के मौके पर नमाज़ के दौरान कड़ी सुरक्षा में सुरक्षा बल तैनात हैं. ईद के मद्देनजर 300 टेलीफोन बूथ भी बनाए गए हैं. जिसके जरिए लोग अपने रिश्तेदारों से बात कर सकते हैं.

दी गई थी धारा 144 में ढील

इससे पहले राज्य में छुट्टी के दिन बैंक और एटीएम भी खुले रहे थे. घाटी में ईद से पहले 2 दिनों के लिए धारा 144 में ढील दी गई थी. धारा 144 में ढील देने के बाद लोग अपने घरों से खरीदारी करने के लिए बाहर आए, दुकानें सजी और लोगों की चहल-पहल बाजारों में दिखने लगी. लेकिन दोपहर के बाद हालत खराब होने की आशंका में धारा 144 को फिर से लागू कर दिया गया.

हिंसा की खबरों का खंडन

ईद के मद्देनजर प्रशासन ने अपनी तरफ से लोगों की सुविधा के लिए खास इंतजाम करने का दावा किया है. वहीं दूसरी तरफ जम्मू-कश्मीर पुलिस ने अंतरराष्ट्रीय मीडिया में आई उन खबरों का भी खंडन किया है जिनमें पिछले दिनों कश्मीर घाटी में हिंसा की बात कही गई थी. जम्मू कश्मीर में हिंसा की खबरों को लेकर अंतरराष्ट्रीय मीडिया की रिपोर्ट बेबुनियाद बताई गई है.

जम्मू कश्मीर पुलिस ने इन खबरों का खंडन करते हुए 1 दिन पहले एक वीडियो बयान जारी किया था. इसमें कहा गया था कि घाटी में पिछले 6 दिनों से ऐसी कोई घटना नहीं हुई है और वह अंतरराष्ट्रीय मीडिया से अपील करते हैं कि जिम्मेदारी से खबरों को दिखाएं.

जम्मू कश्मीर पुलिस की तरफ से कहा गया है कि लोगों को अफवाह पर ध्यान नहीं देना चाहिए. पूरे राज्य में शांति बनी हुई है और कर्फ्यू में ढील दी जा रही है. श्रीनगर और बाकी शहरों में लोग ईद की खरीदारी करने के लिए घरों से बाहर निकलेय. जम्मू कश्मीर में पिछले दो-तीन दिनों से हालात सामान्य करने की कोशिश की जा रही है. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.