भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के वैज्ञानिक बेहद ही सफलतापूर्वक तरीके से दूसरे मून मिशन चंद्रयान 2 को पृथ्वी की कक्षा से आगे बढ़ा रहे हैं. लॉन्चिंग होने के बाद चंद्रयान ने पहली बार पृथ्वी की एक बेहद ही अद्भुत और रोमांचक तस्वीर भेजी है. इसरो के मुताबिक chandrayaan-2 ने जो तस्वीरें ली है वह li4 कैमरे से ली गई हैं जिसमें पृथ्वी नीले रंग की दिखाई दे रही है. यूनिवर्सिल टाइमिंग के मुताबिक यह तस्वीर 17:32 की है.

क्या है यूनिवर्सिल टाइमिंग ?

यूनिवर्सल टाइम समय मानक है जो कि पृथ्वी के घूमने की औसत गति को दर्शाता है. यह घड़ियों से नहीं बल्कि तारों को देखकर मापा जाता है. भारत समन्वित यूनिवर्सल टाइम से 5 घंटे 30 मिनट आगे है. 22 जुलाई को लॉन्च के बाद इसे पेरिजी (पृथ्वी से कम दूरी) 170 किलोमीटर और एपोजी (पृथ्वी से ज्यादा दूरी) 45,475 किलोमीटर पर स्थापित किया गया था.  2 अगस्त की दोपहर 3:27 पर chandrayaan-2 की कक्षा में सफलतापूर्वक चौथी बार बदलाव किया गया था. अब इसकी पेरिजी 277 किलोमीटर और एपोजी 89472 किलोमीटर कर दी गई है. जिसके बाद अब 4 अगस्त तक पृथ्वी के चारों तरफ चंद्रयान 2 के ऑर्बिट को बदला जाएगा.

जारी है चंद्रयान-2 की यात्रा

आपको बता दें कि 22 जुलाई को लॉन्चिंग के बाद से ही चांद के दक्षिणी ध्रुव पर पहुंचने के लिए chandrayaan-2 की 48 दिन की यात्रा शुरू हो चुकी है. लॉन्चिंग के 16.23 मिनट बाद chandrayaan-2 पृथ्वी के करीब 170 किलोमीटर की ऊंचाई पर जीएसएलवी MK3 रॉकेट से अलग होकर पृथ्वी की कक्षा में चक्कर लगा रहा था.

चांद की कक्क्षा में पहुंचेगा चंद्रयान-2

इसरो वैज्ञानिकों ने chandrayaan-2 के लॉन्च लेकर काफी बदलाव किए थे. Chandrayaan-2 अंतरिक्ष यान 22 जुलाई से लेकर 6 अगस्त तक पृथ्वी के चारों तरफ चक्कर लगाएगा इसके बाद 14 अगस्त से 20 अगस्त तक चांद की तरफ जाने वाली लंबी कक्षा में यात्रा करेगा. 20 अगस्त को ही यह चांद की कक्षा में पहुंचेगा. इसके बाद 11 दिन यानी 31 अगस्त तक वह चांद के चारों तरफ चक्कर लगाएगा. फिर 1 सितंबर को विक्रम लैंडर और भीतर से अलग हो जाएगा और चांद के दक्षिणी ध्रूव की तरफ यात्रा शुरू करेगा. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.