राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 73वें स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्र को संबोधित किया. राष्ट्र को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कई अहम मुद्दों पर बात की. इस कड़ी में उन्होंने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने पर भी बात की. राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में भरोसा जताया कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाना वहां के लोगों के लिए फायदेमंद साबित होगा.

राष्ट्र को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि ‘लोगों के जनादेश में उनकी आकांक्षाएं साफ दिखाई देती है. इन आकांक्षाओं को पूरा करने में सरकार अपनी अहम भूमिका निभाती है. मेरा मानना है कि 130 करोड़ भारतवासी अपने कौशल, प्रतिभा, उद्यम और इनोवेशन के जरिए बहुत बड़े पैमाने पर विकास के और अधिक अवसर पैदा कर सकती है.’

‘हमारा भाई-चारा सदैव बना रहे’

राष्ट्रपति ने अपने संबोधन में कहा कि ’मेरा कामना है कि हमारी समावेशी संस्कृति, हमारे आदर्श, हमारी करुणा, हमारी जिज्ञासा और हमारा भाई-चारा सदैव बना रहे और हम सभी, इन जीवन मूल्यों की छाया में आगे बढ़ते रहें. हमारी संस्कति की यह विशेषता है कि हम सब प्रकृति के लिए और सभी जीवों के लिए प्रेम और करुणा का भाव रखते हैं. पूरी दुनिया के जंगली बाघों की तीन चौथाई आबादी को हमने सुरक्षित बसेरा दिया है’

युवाओं का का उठाया मुद्दा

राष्ट्रपति ने कहा कि ‘मुझे विश्वास है कि समाज के अंतिम व्यक्ति के लिए भारत, अपनी संवेदनशीलता बनाए रखेगा. भारत, अपने आदर्शों पर अटल रहेगा. भारत अपने जीवन मूल्यों को संजोकर रखेगा और साहस की परंपरा को आगे बढ़ाएगा. भारत युवाओं का देश है. हमारे युवाओं की ऊर्जा खेल से लेकर विज्ञान तक और ज्ञान की खोज से लेकर सॉफ्ट स्किल तक, कई क्षेत्रों में अपनी प्रतिभा बिखेर रही है’

‘अनुच्छेद 370 हटने से होगा फायदा’

अपने संबोधन में राष्ट्रपति ने कहा कि ’मुझे विश्वास है कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लिए हाल ही में किए गए बदलावों से वहां के निवासियों को काफी अधिक लाभ होगा, सरकार, लोगों की आशाओं-आकांक्षाओं को पूरा करने में उनकी सहायता के लिए बेहतर बुनियादी सुविधाएं और सामर्थ्य उन्हें उपलब्ध करा रही है.’ ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.

प्रदीप शर्मा