पंचकूला हिंसा मामले में जेल से जमानत पर बाहर आने के बाद डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की मुंब बोली बेटी हनीप्रीत उनसे मिलने की पूरी  कोशिश में लगी हुई है. राम रहीम से मिलने के लिए हनीप्रीत हर संभव कोशिश कर रही है. जिसके बाद अब ऐसा लग रहा है कि बीजेपी की तरफ से भी हनीप्रीत को राम रहीम से मिलाने के पक्ष में है.

हनीप्रीत को मिलवाने का पक्ष

दरअसल मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार हनीप्रीत को राम रहीम से मिलवाने को लेकर हरियाणा के एक मंत्री ने बयान दिया है कि ‘राम रहीम से मुलाकात करना उसका अधिकार है’. मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने कहा है कि ‘सभी लोगों को दोषियों से मुलाकात करने का बराबर अधिकार है और कानून किसी को भी उस वयक्ति से मिलने से नहीं रोकता’.

अनिल विज का बयान

मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार अनिल विज ने कहा है कि ‘राम रहीम से मुलाकात को लेकर हनीप्रीत के आवेदन पर सरकार कानूनी सलाह ले रही है और अगर कोई समस्या नहीं है तो वह राम रहीम से मुलाकात कर सकती है ल किन अब तक इस मुद्दे पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है’. बताया जा रहा है कि इस मामले में अधिकारियों की तरफ से, राम रहीम और हनीप्रीत के बीच मुलाकात से राज्य में कानून व्यवस्था बिगड़ने का अनुमान लगाया गया है. बताया जा रहा है कि पुलिस को डर है कि इसके पीछे कोई योजना भी हो सकती है.

राम रहीम का प्रभाव

राम रहीम के बारे में बात की जाए तो क्षेत्र में उसका अच्छा खासा प्रभाव है. काफी बड़ी संख्या में उसे लोगों का सपोर्ट मिला हुआ है और बड़ी संख्या में लोग उसका अनुसरण करते हैं. हालांकि पहले भी राम रहीम की तरफ से उसके मुख्यालय में खेतों की देखभाल करने के लिए 42 दिनों की पैरोल की मांग की गई थी. लेकिन उसकी पैरोल की कैंसिल कर दिया गया था.

हनीप्रीत को जमानत

हनीप्रीत इन दिनों जेल से बाहर हैं. उन्हे पंचकूला की एक अदालत ने हिंसा के मामले में जमानत दे दी. वही इससे पहले एक निचली अदालत ने हनीप्रीत इंसा और 35 अन्य आरोपियों के खिलाफ लगे देशद्रोह के आरो हटा दिए. बताया जा रहा है कि इन दिनों हनीप्रीत आश्रम के मुख्यालय में रह रही है. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.

प्रदीप शर्मा