देश में इन दिनों चुनाव के चक्कर में राजनीतिक माहौल बेहद ही गर्म हो रखा है. ऐसे में महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के घोषणापत्र में बीजेपी की तरफ से सावरकर को भारत रत्न दिए जाने की मांग उठाई गई है. जिसके बाद इस इस मुद्दे पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की टिप्पणी सामने आई है.

सावरकर के खिलाफ नहीं

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि कांग्रेस वीर सावरकर के खिलाफ नहीं है. इंदिरा गांधी ने उनके नाम से पोस्टल स्टैंप लॉन्च किया था. भारत रत्न देने की मांग एक कमेटी देखती है. इससे पहले कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने प्रेस कॉन्फेंस कर सावरकर को भारत रत्न दिए जाने की मांग का विरोध किया था.

कांग्रेस का तंज

मनीष तिवारी ने तंज भरे लहजे में कहा था कि सावरकर को अगर भारत रत्न दिया जाएगा तो नाथूराम गोडसे को भी भारत रत्न मिलेगा. वही महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए जारी घोषणापत्र में बीजेपी ने 19वीं सदी के समाज सुधारक ज्योतिबा फुले और उनकी पत्नी सावित्रीबाई फुले के साथ वीर सावरकर को भारत रत्न देने की मांग की है.

मनमोहन सिंह का बयान

ऐसे में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि ‘कांग्रेस पार्टी से ज्यादा कोई देशभक्त नहीं है. देश की आजादी की लड़ाई में बीजेपी, आरएसएस का नाम भी नहीं था. देशभक्ति के लिए सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है’. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.

प्रदीप शर्मा