संसद भवन पर हमले के आरोपी और बाद में बरी होने वाले एसएआर गिलानी की मौत की खबर सामने आ रही है. मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार दिल्ली विश्वविद्यालय के पूर्व लेक्चरर एसएआर गिलानी की मौत ह्दय गति रुकने के कारण हुई है.

गिलानी पर लगा था आरोप

साल 2001 में संसद भवन पर हमले की स्पेशल कोर्ट ने एसएआर गिलानी को दोषी करार दिया था. जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने इन्हें आरोपों से बरी कर दिया था. वह दिल्ली यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर भी रह चुके हैं. मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार उनकी मौत गुरुवार को दोपहर के वक्त हुई है.

पूर्व प्रोफेसर थे गिलानी

संसद भवन पर हमले के दोषी अफजल गुरु की सजा मिलने के बाद हुए कार्यक्रम में शामिल होने के आरोपों के बाद गिलानी पर मामला दर्ज किया गया था. ऐसे में उनपर देशद्रोह का मामला चला था. जानकारी के अनुसार एसएआर गिलानी दिल्ली विश्वविद्यालय के जाकिर हुसैन कॉलेज में पढ़ाते थे. गिलानी अरेबक के अच्छे जानकार थे. साथ ही वह बच्चों को बढ़ाते भी थे. गिलानी की दो बेटियां हैं.

संसद पर हुई था हमला

आपको बता दें कि 13 दिसंबर साल 2001 में संसद भवन पर हमला हुआ था. इस हमले के बाद काफी बवाल हुआ था. हमले ने देश ही नहीं बल्कि दुनिया को भी चौंका दिया था. करीब 45 मिनट चले हमले में जैश ए मुहम्मद आतंकी संगठन का नाम सामने आया था. जानकारी के मुताबिक आतंकवादी मुख्य द्वार से होने हुए अंदर आए थे. लेकिन सुरक्षबलों ने आतंकियों के घटिया इरादों को असफल कर दिया था. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.

प्रदीप शर्मा