लॉकडाउन 4 की गाइडलाइंस

कोरोना वायरस के कारण पूरी दुनिया मे हाहाकार मचा हुआ है. देश में इस वायरस के कारण लगे लॉकडाउन को 31 मई तक बढ़ा दिया गया है. कोरोना वायरस से संक्रमित मामलों में लॉकडाउन के बावजूद भी तेजी से बढोत्तरी हो रही है. सरकार इसे लेकर लगातार प्रयास में जुटी हुई है. लगातार लोगों से घरों में रहने की अपील की जा रही है.

आंकड़ां 90 हजार के पार

देश में कोविड 19 के 90927 मामले सामने आ चुके हैं. साथ ही 2872 लोगों की मौत हो चुकी है. इस बीच 17 मई तक लागू किए गए लॉकडाउन को 31 मई तक बढ़ा दिया गया है. यह लॉकडाउन का चौथा चरण होगा. गृह मंत्रालय की ओर से जारी की गई. गाइडलाउंस के मुताबिक शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों को छोड़कर किसी भी व्‍यक्ति की बाहर आवाजाही पर पूर्ण प्रतिबंध लगा रहेगा.

रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन का निर्धारण

नए दिशानिर्देशों के तहत राज्य और केंद्रशासित प्रदेश अब स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा साझा किए गए मापदंडों को ध्यान में रखते हुए कोविड 19 के रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन का निर्धारण कर सकेंगे. ये जोन एक जिला या नगर निगम-नगर पालिका या छोटी प्रशासनिक इकाइयां जैसे कि उप-विभाग आदि हो सकते हैं, जैसा कि राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों द्वारा तय किया गया है. रेड और ऑरेंज जोनके अंदर जिला प्रशासन/स्थानीय शहरी निकायों द्वारा स्थानीय स्तर पर तकनीकी जानकारी के साथ और स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशा-निर्देशों को ध्यान में रखते हुए रोकथाम और बफर जोन की पहचान की जाएगी.

मेट्रो पर पाबंदी

वही कंटेनमेंट जोन के अंदर सख्‍त नियमों के साथ नियंत्रण जारी रहेगा. कंटेनमेंट जोन में मेडिकल इमरजेंसी सेवाओं और आवश्यक वस्तुओं और आवश्‍यक वस्‍तुओं व सेवाओं की आपूर्ति के अलावा किसी भी व्यक्ति की आवाजाही की अनुमति नहीं दी जाएगी. लॉकडाउन के दौरान घरेलू और अंतरराष्‍ट्रीय उड़ानें बंद रहेंगी. कंटेनमेंट जोन के बाहर चारों ओर बफर जोन रहेगा. यहां कोविड 19 के नए मामले सामने आने की आशंका अधिक रहती है. जानकारी के मुताबिक नई गाइडलाइंस के मुताबिक मेंट्रो सेवा को बंद रखा गया है.  वही पूरे देश में 31 मई तक स्कूलों, कॉलेजों, शैक्षिक और प्रशिक्षण/कोचिंग संस्थानों के संचालन पर रोक रहेगी.

कंटेनमेंट जोन पर सख्ती

दूसरी तरफ होटल, रेस्‍त्रां और अन्य हॉस्पिटैलिटी सेवाएं पूरी तरह से बंद रहेंगी. इनमें स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों, पुलिस, सरकारी अफसरों, दूसरे शहरों में फंसे यात्रियों और क्‍वारंटाइन सेंटर के लिए ली गईं इमारतों के लिए खुलने की छूट होगी. रेलवे स्‍टेशनों, एयरपोर्ट बस डिपो में कैंटीन खोलने की छूट रहेगी. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.