अरुणाचल प्रदेश में अमित शाह का दौरा

इन दिनों केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह अरुणाचल प्रदेश के दौरे पर हैं. अपने दौरे के दौरान उन्होंन लोगों को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करने के बाद यह भ्रम फैलाया जा रहा है कि अनुच्छेद 371 भी खत्म किया जाएगा, लेकिन ऐसा कभी नहीं होगा.

‘खत्म नहीं होगा अनुच्छेद 371’

संबोधन के दौरान अमित शाह ने कहा कि 33 वर्ष पहले आज ही के दिन अरुणाचल राज्य की स्थापना हुई थी. मुझे हर्ष है कि विगत 6 वर्षों में केंद्र में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी और यहां पेमा खांडू जी के नेतृत्व में द्रुत गति से विकास कार्य हो रहे हैं. उन्होंने कहा कि नार्थ ईस्ट भारत के लिए हमेशा से बहुत महत्वपूर्ण रहा है इस दुर्गम क्षेत्र में बसने वाली जनजातियां भारतीय संस्कृति के लिए एक श्रृंगार से कम नहीं हैं.

अमित शाह ने कहा कि भारत की संस्कृति नार्थ ईस्ट की संस्कृति के बिना अधूरी ही नहीं, अपंग भी है. अगस्त में जब अनुच्छेद 370 को हटाने का फैसला लिया गया, तो नार्थ ईस्ट में भी अफवाहें और गलतफहमी फैलाई गई कि 370 के साथ ही 371 को भी हटा देंगे. मैं आज समग्र नार्थ ईस्ट को बताना चाहता हूं कि धारा 371 को कोई हटा नहीं सकता और न ही हटाने की किसी की मंशा है.

‘उग्रवाद से मुक्त होगा पूर्वोत्तर’

संबोधन के दौरान शाह ने कहा कि वर्ष 2014 से पहले तक पूर्वोत्तर क्षेत्र भारत के बाकी हिस्सों के साथ केवल भौगोलिक रूप से जुड़ा था, असल जुड़ाव तो मोदी सरकार में हुआ है. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार चाहती है कि पूरा पूर्वोत्तर क्षेत्र उग्रवाद, सीमाओं को लेकर अंतर-सरकारी संघर्ष जैसी समस्याओं से मुक्त हो. गृह मंत्री अमित शाह कहा कि वर्ष 2024 में जब हम वोट मांगने जाएंगे तो तब तक पूर्वोत्तर उग्रवाद, अंतरराज्यीय संघर्ष जैसी समस्याओं से मुक्त हो चुका होगा. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.