‘बॉयज लॉकर रूम’ बवाल

‘बॉयज लॉकर रूम’ चैट ग्रुप का मामला इन दिनों काफी सुर्खियों में चल रहा है. जानकारी है कि इस मामले में पुलिस की तरफ से स्कूली छात्र की गिरफ्तारी भी की गई है. साथ ही साथ इस ग्रुप से जुड़े हुए कुछ लोगों की भी पहचान की गई है. जानकारी है कि पुलिस आगे की कार्रवाई कर रही है.

दिल्ली पुलिस ने की कार्रवाई

दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने दिल्ली के स्कूली लड़कों को इंस्टाग्राम चैट रूम पर बलात्कार को बढ़ावा देने पर कार्रवाई करते हुए यह गिरफ्तारी की है. पुलिस ने पकड़े गए छात्र का मोबाइल फोन बरामद कर लिया है और उसकी जांच भी की जा रही है.मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार इस मामले पर इंस्टाग्राम की तरफ से सफाई दी गई है.

पुलिस ने की गिरफ्तारी

इंस्टाग्राम की तरफ से कहा गया कि विवाद के बाद उसने अपने प्लेटफॉर्म से इस चैट को हटा दिया है. एक बयान में इंस्टाग्राम ने कहा कि उनसे इस मुद्दे को बेहद गंभीरता से लिया है और उसका मानना है कि यूजर्स को सुरक्षित और सम्मानजनक तरीके से अपनी बात रखनी चाहिए. इससे पहले  दिल्ली महिला आयोग ने पुलिस और इंस्टाग्राम को नोटिस जारी कर इस मामले में जवाब मांगा था.

इंस्टाग्राम ने दी सफाई

चलिए अब इस मामले पर विस्तार से बात कर लेते हैं. दरअसल सोशल मीडिया पर रविवार शाम वायरल हुए चैट ग्रुप ‘बॉयज लॉकर रूम’ की कारगुजारी ने अभिभावकों को स्तब्ध करके रख दिया था. दिल्ली एनसीआर के काफी नामी स्कूलों में पढ़ने वाले 11वीं और 12वीं के लड़कों ने अपने साथ पढ़ने वाली और दोस्त लड़कियों को लेकर जिस तरह की भद्दी और अश्लील टिप्पणियां इंस्टाग्राम के एक चैट रूम में की थी. मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार लड़कों ने भंडाफोड़ होने के डर से ग्रुप बनाकर लड़कियों की अभद्र तस्वीरों को वायरल तक करने की योजना बनाई थी.  

क्या था पूरा मामला

खबरों के मुताबिक मामला बढ़ता देख दिल्ली पुलिस के साइबर सेल ने केस दर्ज किया.च अब दिल्ली पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए एक लड़के को हिरासत में लिया है और पूछताछ कर रही है. इससे पहले दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल पहले ही इस मामले में कड़ी कार्रवाई की मांग कर चुकी हैं. दिल्ली महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस और इंस्टाग्राम को नाबालिग लड़कियों के बारे में अभद्र पोस्ट को लेकर नोटिस जारी किया था.

खबरों के अनुसार स्कूल के छात्रों द्वारा इंस्टाग्राम पर चैट ग्रुप ‘बॉयज लॉकर रूम’ बनाया गया था. ग्रुप चलाने वाले लड़के 16 से 18 साल के बताये जा रहे हैं. यह सब साथ पढ़ने वाली और अपनी छात्रा मित्रों के फोटो बिना उनकी जानकारी के शेयर करते थे. जब इस ग्रुप में एक नया लड़का जुड़ा तो उसने अपनी दोस्त को इस बारे में जानकारी दी. जिसके बाद सोशल मीडिया पर एक यूजर ने इस ग्रुप के बारे में जानकारी साझा की. यूजर ने लिखा कि मुझे अपनी जिंदगी में इतना ज्यादा गुस्सा कभी नहीं आया. इन लड़कों को अपनी करनी पर कोई पछतावा तक नहीं है. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.