देश में इन दिनों राम मंदिर का मुद्दा काफी उठ रहा है. अयोध्या में राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई पूरी कर ली है और अपने फैसले को सुरक्षित रख लिया है. माना जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट अपना फैसला 17 नवंबर से पहले सुना सकता है. ऐसा इसलिए है क्योंकि मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई इन दिन ही सेवानिवृत हो रहे हैं. वही इस मुद्दे पर तरह तरह की बयानबाजी के बीच बीजेपी सासंद सुब्रमण्यम स्वामी का बड़ा बयान सामने आया है.

सुब्रमण्यम स्वामी का बयान

अयोध्या में राम मंदिर और मस्जिद को लेकर बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने एक टीवी चैनल पर बड़ा बयान दिया है. मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार टीवी चैनल में शो के दौरान एंकर ने पूछा कि ‘सुन्नी वक्फ बोर्ड का कहना था कि वह मध्यस्थता से खुश हैं और यह हिंदू मुस्लिम दोनों के लिए अच्छा फैसला होगा’. जिसके बाद बीजेपी सासंद ने कहा कि ‘वह ऐसा इसलिए ही कह रहे हैं क्योंकि इलाहाबाद हाईकोर्ट में वक्फ बोर्ड का स्टेटस साबित हुआ था. वक्फ बोर्ड वक्फ एक्ट 1935 के नियमों पर बोर्ड खरा नहीं उतरता ऐसा कोर्ट का कहना था’.

‘रोड पर भी पढ़ लेते हैं नमाज’

शो के दौरान एंकर ने बीजेपी सांसद से पूछा कि ‘इस मामले में आपका क्या कहना है’. जिसके बाद सुब्रमण्यम स्वानी ने कहा कि ‘मंदिर वहां बनाना है यह तय है बाकि बहस इस बात की है क्या एक गुंबद मुस्लिम पक्ष को दिया जाना चाहिए या नहीं, शिया मुस्लिमों ने पहले ही कहा है कि उन्हें जमीन देने में कोई परेशानी नहीं है. उस शहर में और भी कई मस्जिद हैं हमें उनको लेकर आपत्ति नहीं है सरकार उनकी मरम्मत कराए. अयोध्या में कई मस्जिद हैं और मुसलमान लोग किसी भी मस्जिद में नमाज पढ़ लें हमें कोई आपत्ति नहीं है. ये लोग रोड पर भी नमाज पढ़ लेते हैं. पहले इन लोगों ने ऐसा किया भी है. इन लोगों को बाबरी मस्जिद की कोई जरूरत नहीं है’. ऐसी रोचक जानकारी के लिए पढ़ें हमारे लेटेस्ट आर्टिकल. अधिक जानकारी के लिए विजिट करें हमारा फेसबुक पेज.

प्रदीप शर्मा